प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पड़ोसी देशों के शीर्ष नेतृत्व को दी नववर्ष की शुभकामनाएं


नई दिल्ली


नए साल के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पड़ोसी देशों के प्रमुखों से टेलिफोन पर बातचीत कर उन्हें शुभकामनाएं दी। प्रधानमंत्री ने इस तरह भारत की 'सबसे पहले पड़ोसी' की नीति के प्रति प्रतिबद्धता जाहिर की। खास बात यह रही कि प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान के पीएम इमरान खान से बात नहीं की। आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद से ही पाकिस्तान दुनियाभर में भारत के खिलाफ दुष्प्रचार की मुहिम में जुटा हुआ है। हालांकि, उसे हर जगह मुंह की खानी पड़ रही है। ऐसे में पीएम मोदी का यह कदम स्पष्ट तौर पर उसे कड़ा संदेश समझा जा रहा है।


भूटान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, मालदीव किया फोन


प्रधानमंत्री मोदी ने भूटान नरेश जिग्मे खेसर नामग्येल वांगचुक, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे और नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली से फोन पर बातचीत की। इसके अलावा मोदी ने भूटान के पीएम लेटे शेरिंग, श्रीलंका के पीएम महिंदा राजपक्षे और मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह से भी बात कर उन्हें शुभकामनाएं दीं।

प्रधानमंत्री मोदी ने पड़ोसी देशों के राष्ट्राध्यक्षों को अपनी और भारत के लोगों की तरफ से नव वर्ष की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने क्षेत्र में भारत के दोस्तों और साझेदारों को साझा शांति, सुरक्षा, समृद्धि और प्रगति की भावना पर जोर दिया।

भूटान नरेश से बातचीत में खास संबंधों का जिक्र


भूटान नरेश के साथ बातचीत में प्रधानमंत्री मोदी ने दोनों देशों के बीच विशेष संबंधों का खासतौर पर जिक्र किया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने अपने पिछले भूटान दौरे पर वहां के लोगों से मिले प्यार को याद किया। उन्होंने दोनों देशों के बीच एक दूसरे के यहां युवाओं की आवाजाही को और बढ़ाने की जरूरत पर जोर दिया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने भूटान नरेश से मिलने के आगामी कार्यक्रम का भी जिक्र किया।

श्रीलंका ने गर्मजोशी से दिया जवाब


श्रीलंका के राष्ट्रपति राजपक्षे ने भी पीएम की शुभकामनाओं का गर्मजोशी से जवाब दिया और दोनों देशों के बीच दोस्ताना संबंधों को 2020 में और मजबूत करने पर जोर दिया। दोनों नेताओं ने इस दिशा में साथ मिलकर काम करने की प्रतिबद्धता जताई।


पीएम ने शेख हसीना को दी बधाई


बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से बातचीत में प्रधानमंत्री ने उन्हें अवामी लीग का अगले 3 सालों तक के लिए फिर से अध्यक्ष चुने जाने पर बधाई दी। उन्होंने भारत में बांग्लादेश के राजदूत रह चुके सईद मुअज्जम अली के निधन पर शोक जताया। प्रधानमंत्री ने कहा कि 2019 में भारत-बांग्लादेश के बीच संबंधों में प्रगति रही। प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि बंगबंधु की 100वीं जयंती और बांग्लादेश की आजादी के 50 साल होने पर दोनों देशों के बीच आपसी संबंधों में और प्रगति होगी।