यूपी के 15 जिलों में इंटरनेट पर रोक ,31 जनवरी तक धारा 144 लागू, स्कूल-कॉलेजों में छुट्टी, परीक्षाएं रद्द


लखनऊ. 


नागरिकता कानून के विरोध में उत्तर प्रदेश में गुरुवार और शुक्रवार को हिंसा हुई थी। शुक्रवार को यूपी के 20 जिलों में उग्र विरोध प्रदर्शन हुए। इस दौरान 7 शहरों में 14 लोगों की मौत हो गई। हिंसाग्रस्त व संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। पूरे प्रदेश में 31 जनवरी 2020 तक धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस हिंसाग्रस्त इलाकों में गश्त कर लोगों से शांति की अपील कर रही है। लखनऊ समेत यूपी के 15 जिलों में इंटरनेट पर रोक की मियाब सोमवार दोपहर 12 बजे तक के लिए बढ़ा दी गई है। 38 घंटे बाद शनिवार लखनऊ में 12 बजे थोड़ी देर के लिए इंटरनेट चालू किया गया था। यहां गुरुवार रात 10 बजे इंटरनेट बंद किया था। अभी प्रदेश के 27 जिलों में इंटरनेट बंद है।


फिरोजाबाद में अघोषित कर्फ्यू जैसा माहौल, अन्य जगहों पर तनावपूर्ण शांति
शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद प्रदेश भर में लोग जुलूस की शक्ल में नागरिकता कानून के विरोध में नारे लगाते हुए निकले। कुछ जिलों में लोगों ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन के बाद प्रशासनिक अधिकारी को ज्ञापन देकर अपने घरों को लौट गए और जागरुक नागरिक होने का प्रमाण दिया। लेकिन 20 जिलों में प्रदर्शन ने हिंसा का रूप ले लिया। आगजनी, तोड़फोड़ व पथराव हुए। नतीजा पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। इस दौरान मेरठ में चार, बिजनौर, कानपुर, संभल, फिरोजाबाद में दो-दो और मुजफ्फरनगर, वाराणसी में एक-एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई। यहां इंटरनेट सेवाएं ठप हैं। फिरोजाबाद में अघोषित कर्फ्यू जैसा माहौल है।


पॉलीटेक्निक, टीईटी की परीक्षा स्थगित, सभी स्कूलों में छुट्टी


यूपी में उग्र हिंसा के चलते शनिवार को प्रस्तावित पॉलीटेक्निक की विशेष बैक परीक्षा भी स्थगित कर दी गयी है। प्रविधिक शिक्षा परिषद के सचिव संजीव सिंह ने बताया कि जल्द ही इसकी तिथि जारी कर सूचित कर दिया जाएगा। इससे पहले शुक्रवार की भी परीक्षा स्थगित कर दी गई थी। वहीं, स्कूल कॉलेजों में भी छुट्टी है। यूपी टीईटी परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई है। 


अब तक 450 से अधिक गिरफ्तारी, रिटायर्ड आईपीएस पर भी केस


डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि, किसी भी निर्दोष के खिलाफ अभियोग दर्ज नहीं होगा। लेकिन प्रदर्शन के दौरान हिंसा करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। जांच के लिए कमेटी बनाई गई है। बताया कि, प्रयागराज में 150, गाजियाबाद में 65, बहराइच में 38, बाराबंकी में तीन, हापुड़ में 9 और कुल 450 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है। लखनऊ में पूर्व आईपीएस एसआर दारापुरी समेत 150 लोगों को गिरफ्तार किया है। शुक्रवार देर शाम पुलिस ने रिटायर आईपीएस एसआर दारापुरी के खिलाफ उपद्रव की साजिश रचने का मुकदमा दर्ज किया है।


15 जिलों में इंटरनेट पर रोक की मियाद बढ़ी


अब लखनऊ समेत 15 जिलों में सोमवार को 12 बजे तक इंटरनेट और एसएमएस सेवाएं बंद रहेंगी। मोबाइल ऑपरेटर्स को गृहमंत्रालय द्वारा आदेश भेजे गए हैं। इन जिलों में लखनऊ, सहारनपुर, मेरठ, शामली, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, बरेली, मऊ, संभल, आजमगढ़, आगरा, कानपुर, उन्नाव, मुरादाबाद, प्रयागराज शामिल हैं। अन्य जिलों में भी इंटरनेट सेवाओं को बंद रखने का फैसला वहां के डीएम पर छोड़ा गया है। स्थितियों के अनुरूप वे इंटरनेट सेवाओं को प्रतिबंधित कर सकते हैं।