उद्धव सरकार का कैबिनेट विस्तार: अजित पवार 37 दिन में दूसरी बार डिप्टी सीएम बने


मुंबई. 


महाराष्ट्र में उद्ध‌व ठाकरे सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार सोमवार को हुआ। अजित पवार ने उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। पूर्व सीएम अशोक चव्हाण ने मंत्री बने। शिवसेना के आदित्य ठाकरे भी बतौर मंत्री शपथ लेंगे। 28 नवंबर को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ शिवसेना, कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस के दो-दो मंत्रियों ने शपथ ली थी। नियम के मुताबिक, महाराष्ट्र सरकार में मुख्यमंत्री के अलावा 42 मंत्री ही शामिल सकते हैं।


कैबिनेट में नए मंत्रियों के शामिल होने के बाद विभागों में बदलाव हो सकता है। फिलहाल, मुख्यमंत्री उद्धव के पास कोई विभाग नहीं है। गृह और उद्योग विभाग शिवसेना के पास हैं। वित्त और ग्रामीण विकास विभाग राकांपा को दिए गए हैं। कांग्रेस को राजस्व, पीडब्ल्यूडी और ऊर्जा मंत्रालय सौंपा गया था।


शिवसेना के 14: आदित्य ठाकरे, रवींद्र वायकर, उदय सामंत, गुलाबराव पाटिल, तानाजी सावंत, आशीष जैसवाल, संजय राठौड, दादा भुसे, दिवाकर रावते, अनिल परब, डॉ.राहुल पाटिल, संजय शिरसाट, अनिल बाबर, शंभूराज देसाई।


राकांपा के 12: अजित पवार, दिलीप वलसे पाटिल, नवाब मलिक, धनंजय मुंडे, जितेंद्र आव्हाड, हसन मश्रीफ, अनिल देशमुख, राजेंद्र शिंगणे, मकरंद पाटिल, बालासाहेब पाटिल, सरोज अहिरे और डॉ.किरण लहामटे।


कांग्रेस के 10: पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण, केसी पाडवी, विजय वडेट्टीवार, अमित देशमुख, सुनील केदार, यशोमती ठाकुर, वर्षा गायकवाड, असलम शेख, सतेज पाटिल और विश्वजीत कदम।


छोटे दलों को मंत्रिमंडल में जगह नहीं


मंत्रिमंडल विस्तार में छोटे दलों को जगह मिलने की संभावना नहीं है। इससे गठबंधन में शामिल छोटे दलों में नाराजगी बढ़ गई है। महा विकास अघाड़ी में स्वाभिमानी शेतकरी संगठन, शेकाप, समाजवादी पार्टी, सीपीएम, बहुजन विकास अघाड़ी, प्रहार और जोगेंद्र कवाडे की रिपल्बिकन पार्टी शामिल हैं। सूत्रों के मुताबिक, मंत्रिमंडल विस्तार से पहले छोटे दलों के साथ कोई बातचीत नहीं की गई। इससे यह दल खुद को उपेक्षित महसूस कर रहे हैं। पहले खबर थी कि शेकाप के जयंत पाटिल, प्रहार के बच्चू कडू और जोगेंद्र कवाडे मंत्रिमंडल में शामिल हो सकते हैं। इनमें सपा के अबू आसिम आजमी का नाम भी शामिल था।