सजा के डर से दुष्कर्म के दोषी ने फांसी लगाई, 12 दिसंबर को कोर्ट का फैसला आना था


लखीमपुर खीरी. 


यहां दुष्कर्म के एक दोषी ने सजा के डर से बुधवार को फांसी लगाकर जान दे दी। परिजन के अनुसार, 12 दिसंबर को इस केस में फैसला आना था। इसमें युवक मुख्य आरोपी था। युवक पर आरोप तय हो चुके थे। इसके बाद से वह परेशान चल रहा था।  


दो साल पहले केस दर्ज हुआ था, जमानत पर था दोषी


थाना मैलानी क्षेत्र के बांकेगंज में लगभग दो साल पहले एक ग्रामीण संतोष कुमार पर गांव की नाबालिग ने पाॅस्को एक्ट के तहत रेप का केस दर्ज कराया था। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वर्तमान में मामला कोर्ट में है। संतोष जमानत पर जेल से बाहर था। 


आरोप- केस वापस लेने के लिए दो लाख मांग रहे थे किशोरी के परिजन


परिजन के अनुसार, कोर्ट में मामले की सुनवाई पूरी हो चुकी है। दोष भी तय हो चुके हैं। 12 दिसंबर को कोर्ट ने फैसला सुनाने के लिए तारीख दी थी। इसके बाद संतोष तनाव में रहने लगा था। संतोष के भतीजे लालजी राठौर ने कहा- केस को लेकर तनाव तो था ही, पीड़िता के परिजन दो लाख की डिमांड कर रहे थे। कहते थे कि दो लाख दे दो, केस वापस ले लेंगे। मंगलवार रात संतोष ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।