प्रदर्शन के दौरान सरकारी सम्पत्ति को नुकसान पहुचाने वाले एएमयू के 10,000 छात्रों के खिलाफ केस दर्ज


अलीगढ


उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में 15 दिसम्बर को हुए प्रदर्शनों के दौरान सरकारी संपत्तियों को भारी नुकसान हुआ है। इसके नुकसान की भरपाई के लिए आरएएफ की ओर से भी मुकदमा दर्ज कराया गया है। कमांडेंट की ओर से दर्ज कराए गए मुकदमे में 10 हजार अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।


आरएएफ के नुकसान का उल्लेख किया है। कमांडेंट की ओर से सरकारी कार्य में बाधा, बल्वा व 144 के उल्लंघन की धाराओं में दर्ज कराए गए मुकदमे में कहा गया है कि डीएम के बुलावे पर उनकी वाहिनी ने दो कंपनियां एएमयू सर्किल पर तैनात थी।


इसी दौरान उपद्रवी युवकों एवं छात्रों की भीड़ ने हंगामा करते हुए हमला बोल दिया। काफी प्रयास के बावजूद जब वो लोग नहीं माने, तो उनपर ड्यूटी मजिस्ट्रेट की अनुमति से हल्का बल प्रयोग करते हुए आंसू गैस के गोले छोड़े गए और हल्का लाठी बल प्रयोग किया गया। 


इस बवाल में एक वरुण वाहन, एक फायर टेंडर वाहन, दो वज्रा वाहन, एक टाटा बस, एक आयशर वाहन क्षतिग्रस्त हुए हैं। इसके अलावा आरएएफ के जो नॉन एलेथिकल हथियार चले, खर्च हुए या क्षतिग्रस्त हुए हैं, उनका भी उल्लेख किया है। इंस्पेक्टर सिविल लाइंस अमित कुमार के अनुसार एएमयू बवाल में जो दो मुकदमे दर्ज हुए हैं, उन्हीं में इसे शामिल किया गया है।