फर्जी पासपोर्ट: अधिकारियों और पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी ,पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ की


मऊ


उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में एसपी दफ्तर परिसर में ही फर्जी पासपोर्ट गैंग का खुलासा होने के बाद दो पुलिसकर्मियों समेत दस की गिरफ्तारी के बाद मंगलवार को एलआईयू इंस्पेक्टर और एक एसआई को पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। एसपी अनुराग आर्य ने इस मामले में फरार चल रहे एलआईयू ऑफिस की मुख्य आरक्षी संध्या मिश्रा और आरक्षी अनिल विश्वकर्मा पर 10-10 हजार रुपये का पुरस्कार घोषित कर दिया है।


इसके अलावा दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए स्वाट टीम और पुलिस टीम छापेमारी कर रही है। गौरतलब है कि जिले में फर्जी पासपोर्ट मामले में फर्जी मार्कशीट लगाकर बड़े पैमाने पर पासपोर्ट बनाने का अवैध कारोबार धड़ल्ले से चल रहा था। इसका मुख्य संचालन पुलिस अधीक्षक कार्यालय परिसर में मौजूद एलआईयू दफ्तर से ही हो रहा था। एक सप्ताह पहले गुमनाम शिकायत ने इस अवैध कारोबार का भंडाफोड़ कर दिया।

इस शिकायत को संज्ञान में लेते हुए पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य ने एलआईयू शाखा में जांच-पड़ताल शुरु किया। यहां से इंस्पेक्टर और एसआई को हिरासत में ले लिया गया। इसके साथ ही फरार आरोपियों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई। जबसे फर्जी पासपोर्ट का मामला प्रकाश में आया है, तबसे एलआईयू दफ्तर की मुख्य आरक्षी संध्या मिश्रा और आरक्षी अनिल विश्वकर्मा फरार हैं। उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमें छापेमारी कर रही हैं। मुख्य आरोपियों की गिरफ्तारी में देरी होने के कारण पुलिस अधीक्षक ने उनकी गिरफ्तारी पर भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत इनाम भी घोषित किया।