लखनऊ में भड़की हिंसा ,उपद्रवी गलियों से निकलकर कर रहे पथराव ,लखनऊ मेट्रो रेल कारपोरेशन ने सभी 22 मेट्रो स्टेशन बंद किये


लखनऊ.  


उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में धारा-144 लागू होने के बावजूद नागरिकता कानून के विरोध में गुरुवार को कई जिलों में प्रदर्शन हिंसक हो उठा। लखनऊ में उपद्रवियों ने मदेयगंज और सतखंडा चौकी में आगजनी कर दी। प्रदर्शनकारियों ने यहां गाड़ियां फूंक दीं। परिवर्तन चौक के पास एक बस में भी आग लगा दी। संभल जिले में प्रदर्शनकारियों ने रोडवेज की बस जला दी और वाहनों पर पथराव किया। लखनऊ और संभल में पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और लाठीचार्ज करके उपद्रवियों को खदेड़ा।


नागरिकता कानून के विरोध में समाजवादी पार्टी और कई अन्य संगठनों ने प्रदर्शन किया। पूरे प्रदेश में धारा-144 लागू की गई है। संवेदनशील इलाकों में आरएएफ, पीएसी, क्विक रिस्पांस टीम तैनात की गई।


लखनऊ मेट्रो रेल कारपोरेशन ने प्रदर्शन को देखते सभी 22 मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए गए हैं। स्टेशनों व अमौसी एयरपोर्ट पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है।


लखनऊ के परिवर्तन चौक पर नागरिकता कानून के विरोध में कांग्रेस, वामपंथी दलों के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो झड़प भी हुई। पुलिस ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू समेत कई कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है। 


भीड़ ने गलियों से निकलकर बार-बार पथराव किया। मदेयगंज पुलिस चौकी के बाहर खड़ी तीन बाइकों को भी उपद्रवियों ने फूंक दिया। प्रदर्शनकारी हजरतगंज की ओर भी बढ़े। परिवर्तन चौक पर बस फूंकी गई और कई गाड़ियों में तोड़फोड़ की गई।