भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा राजीव गांधी सेवा केंद्र भादर

अमेठी


हरिकेश यादव -संवाददाता (इंडेविन टाइम्स)


पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल में 25 लाख रुपए राजीव गांधी सेवा केंद्र भादर के नाम से 2013 में आवंटित हुआ था इस धन का ब्लॉक कर्मचारियों ने बंदर बांट कर  अपनी निजी संपत्ति बना ली जिससे भवन निर्माण का कार्य अधूरा पड़ा हुआ है। जिसमें झाड़ियां और पेड़ उग हुए हैं, जो वीडियो कार्यालय भादर के पीछे और कृषि बीज भंडार केंद्र भादर के ठीक सामने स्थित है।



(फोटो - भ्रष्टाचार को दिखा रहा अधूरा पड़ा राजीव गांधी सेवा केंद्र भादर का भवन)


इस भवन निर्माण में तत्कालीन निर्माण प्रभारी ग्राम पंचायत अधिकारी व खंड विकास अधिकारी की मिलीभगत से इनकार नहीं किया जा सकता है। इस अधूरे भवन की शिकायत पूर्व महासचिव कांग्रेस उत्तर प्रदेश के नेता अशोक सिंह हिटलर ने जिलाधिकारी अमेठी अरुण कुमार से की। जिस पर जांच के लिए जिलाधिकारी ने सीडीओ अमेठी को नामित किया है इस बारे में जब सीडीओ अमेठी के 9454465472 फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया गया तो उन्होंने फोन नहीं रिसीव किया ।


अधूरे भवन निर्माण की  कांग्रेसी  नेता देवेंद्र सिंह, बलराम यादव त्रिशुंडी, हरी लाल यादव ,जयप्रकाश यादव, सोनू सिंह भादर,भोला यादव, विनोद कनौजिया पूर्व जिला पंचायत प्रतिनिधि, रविंद्र सिंह, मोहम्मद अयूब, डॉ राम सजीवन दुबे गैस एजेंसी रामगंज,व रवि शुक्ला सहित अन्य कांग्रेसी नेताओं ने कटु शब्दों में निंदा की है।