ट्रांस गंगा सिटी परियोजना - हिंसक हुआ किसानों का प्रदर्शन आगजनी, पुलिस से झड़प


उन्नाव


उन्नाव में गंगा नदी के किनारे बस रही ट्रांस गंगा सिटी परियोजना के लिए जमीन अधिग्रहण के खिलाफ किसानों अब हिंसक हो गया है। किसानों ने रविवार को यहां पावर सबस्टेशन के पास आग लगा दी। इस दौरान पुलिस के साथ उनकी तीखी झड़प हुई। उग्र किसानों पर काबू पाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इससे पहले शनिवार को भी किसानों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। पथराव में सीओ सिटी समेत 4 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। गुस्साई पुलिस ने लाठीचार्ज के बाद आंसू गैस के गोले दागकर किसानों को खदेड़ा।


दरअसल, यूपीएसआईडीसी के ट्रांस गंगा सिटी प्रॉजेक्ट में शासन के निर्देश पर कब्जा लेकर काम करवाने पहुंचे प्रशासन और अधिगृहीत जमीन के मुआवजे की मांग को लेकर पिछले ढाई साल से आंदोलन कर रहे किसान शनिवार सुबह आमने-सामने आ गए। सड़क पर उतरे आंदोलित किसानों ने एक जेसीबी, कार और बस में तोड़फोड़ कर आगजनी का प्रयास किया।

रविवार को किसानों का प्रदर्शन और उग्र हो गया। किसानों ने मुआवजे की मांग को लेकर पावर हाउस के पास रखे पाइपों में आग लगा दी। फायर ब्रिगेड और पुलिस की टीम ने काफी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। इसके बाद पुलिस और किसानों में तीखी झड़प हुई।


पुलिस ने किसानों पर पानी का छिड़काव करते हुए आंसू गैस के 6 गोले दागकर लाठीचार्ज कर दिया। जवाब में किसानों ने पुलिस पर पथराव कर दिया जिसमें सीओ सिटी अंजनी राय सहित 4 पुलिस कर्मी घायल हो गए। किसान नेता वीएन पाल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उनके सिर में चोट लगी है। 2 किसानों को गंभीर हालत में जिला अस्पताल भर्ती कराया गया है।

किसानों का मुआवजा दिया जा चुका है: DM
डीएम देवेंद्र पांडेय ने बताया किसानों का जो मुआवजा था वह दिया जा चुका है। प्रशासन के पास उनका कोई बकाया नहीं है। इसके बावजूद किसान जिद पर अड़े हैं। शासन स्तर पर कई बार बातचीत हो चुकी है लेकिन किसान मानने को तैयार नहीं है। डीएम ने बताया कुछ अराजक तत्वों द्वारा पथराव किया गया था इसपर फायर ब्रिगेड ने पानी का छिड़काव कर आंसू गैस के गोले का इस्तेमाल किया और लाठी पटक कर स्थिति नियंत्रण में की गई है।