सीओ को धमकाने के मामले में सीएम योगी ने मंत्री स्वाति सिंह को तलब कर मांगी सफाई

लखनऊ


धोखाधड़ी के 150 से ज्यादा मामलों में जांच का सामना कर रहे अंसल के लिए कथित तौर पर पैरवी करना और सीओ को धमकाना राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाति सिंह को भारी पड़ रहा है। शनिवार को सीएम योगी आदित्यनाथ ने वायरल ऑडियो को लेकर मंत्री स्वाति सिंह को तलब किया और सफाई मांगी। करीब 25 मिनट तक सीएम योगी और स्वाति सिंह की मुलाकात हुई।


सूत्रों ने बताया कि सीएम योगी काफी नाराज थे। इसके अलावा डीजीपी से भी रिपोर्ट तलब की है। सूत्रों के मुताबिक, योगी ने कहा है कि किसी भी दागी या अपराधी की पैरवी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सीएम के निर्देश पर डीजीपी ओपी सिंह ने लखनऊ के एसएसपी से रिपोर्ट मांगी है।

बता दें कि मंत्री स्वाति सिंह और सीओ कैंट बीनू सिंह की बातचीत का एक कथित ऑडियो शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। ऑडियो में स्वाति सिंह सीओ को अंसल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए फटकार लगा रही हैं और आकर मिलने की हिदायत देते हुए सुनाई पड़ रही हैं।


मंत्री स्वाति सिंह ने सीओ को ही बताया भ्रष्टाचारी
उधर, ऑडियो क्लिप सामने आने के बाद स्वाति सिंह ने जहां सीओ पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है, वहीं सीओ ने इस संबंध में कुछ भी कहने इनकार कर दिया। स्वाति सिंह ने सीओ को धमकी देने के आरोपों को गलत बताया है। उनका कहना है कि सीओ खुद को डीजीपी का रिश्तेदार बताती हैं और गरीब-पीड़ितों की एफआईआर नहीं दर्ज करती हैं। जिस मामले में उन्हें पैसा मिल जाए, उसकी एफआईआर दर्ज कर लेती हैं। मैंने पहले भी इन्हें कई पीड़ितों के केस दर्ज करने के लिए कहा, पर उन्होंने नहीं दर्ज किए। मैंने खुद डीजीपी से उन्हें हटाने की सिफारिश की थी। इसके बाद सीओ ने बचने के लिए ऑडियो वायरल कर दिया। इन्हें जनप्रतिनिधि का ऑडियो वायरल करने का अधिकार किसने दे दिया? मैंने कभी कोई गलत सिफारिश नहीं की है।