राष्ट्रपति कोविंद ने किया अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस का शुभारम्भ


कानपुर. 


राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि आईआईटी कानपुर देश के सबसे पुराने आइआइटी में से एक है। ऐसे संस्थान प्रदूषण व जलवायु परिवर्तन के कारण होने वाली समस्याओं का समाधान तलाश रहे हैं। कपड़ा व चर्म उद्योग में विश्व स्त्री पहचान बनाने वाला कानपुर आज तक तकनीकी के साथ प्रदूषण में भी बढ़ा है। तकनीकी के नुकसान व फायदे दोनों हैं। 




कोविंद ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग व इंटरनेट ऑफ थिंग्सथैंक्स ने जहां काम को आसान व पारदर्शी बनाया है। उन्होंने कहा कि कानपुर में आइआइटी, हरकोर्ट बटलर प्राविधिक विश्वविद्यालय व पीएसआईटी समेत कई तकनीकी संस्थान हैं जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स मशीन लर्निंग व साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्रों में काम कर रहे हैं। तकनीकी से प्रदूषण जैसी समस्याओं का समाधान संभव है। 


वे यहां दो दिन तक रहकर कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। शनिवार को वह छत्रपति साहू जी महाराज विश्वविधालय में आयोजित पूर्व छात्र सम्मेलन में पुराने छात्रों को सम्मानित करेंगे। यह कार्यक्रम दोपहर बाद आयोजित होगा। इसके बाद वे यहां इंटरनेशनल गेस्ट हाउस में विशिष्ट लोगों के साथ मुलाकात करेंगे।


शाम को यहां के मोतीझील स्थित नगर निगम पहुंचेंगे। यहां अभिनंदन समारोह में शामिल होंगे। यहां से राष्ट्रपति का कार्यक्रम सुरक्षित रखा गया है। वे शाम को सर्किट हाउस में लोगों से मुलाकात करेंगे। अगले दिन सुबह कुछ प्रमुख लोग सर्किट हाउस में राष्ट्रपति से मिलेंगे। रविवार सुबह करीब 11 बजे वे दिल्ली रवाना हो जाएंगे।


राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के शनिवार को शहर आगमन को लेकर पुलिस मुस्तैद हो गई है। शुक्रवार को आलाधिकारियों ने कानपुर विश्वविद्यालय के सभागार में पुलिसकर्मियों को उनकी ड्यूटी के बारे में जानकारी दी। इस दौरान बताया गया कि अगर मौसम खराब हुआ तो राष्ट्रपति विवि तक सड़क मार्ग से आ सकते हैं।