काशी हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय -गैर हिन्‍दू प्रफेसर की नियुक्ति के विरोध में अब हनुमान चालीसा का पाठ

वाराणसी



काशी हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय (बीएचयू) के संस्‍कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में असिस्‍टेंट प्रफेसर पद पर डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति को लेकर उपजा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। नियुक्ति के विरोध में कुलपति आवास के बाहर दस दिनों से चल रहे छात्रों के धरने के दौरान 'मिर्ची हवन', बुद्धि-शुद्धि यज्ञ, रुद्राभिषेक के बाद सोमवार को हनुमान चालीसा का 108 बार पाठ किया गया।


डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति के विरोध में सात नवम्‍बर से कुलपति आवास के बाहर छात्र धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। छात्र नियुक्ति को महामना के आदर्शों और नियमों के विपरीत बताते हुए इसे रद्द करने की मांग पर अड़े हैं। जबकि बीएचयू प्रशासन ने नियुक्ति को सही ठहराया है। प्रशासन का कहना है कि चयन समिति की बैठक में विषय विशेषज्ञों ने पारदर्शी प्रक्रिया अपनाते हुए नियुक्ति में असिस्‍टेंट प्रफेसर पद पर डॉ. फिरोज खान को योग्‍य पाया। इस बीच प्रदर्शन करने वाले छात्रों के साथ कुलपति की दो घंटे तक मीटिंग भी बेनतीजा रही है।

धरना दे रहे छात्रों ने पहले मिर्ची हवन, बुद्धि-शुद्धि यज्ञ के बाद रविवार को रुद्राभिषेक किया। सोमवार को छात्रों ने 108 बार हनुमान चालीसा का पाठ कर विरोध प्रदर्शन किया। छात्रों का कहना है कि नियुक्ति रद्द होने तक उनका धरना जारी रहेगा।