डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी में दाखिले के नाम पर 4 लाख ऐंठे


लखनऊ


डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी (एकेटीयू) के सरकारी बीफार्मा कॉलेज में दाखिला दिलवाने के नाम पर पैसा वसूलने वाले आरोपी को शुक्रवार को कैम्पस में पकड़ लिया गया। दरअसल, पीड़ित छात्रों के अभिभावकों ने आरोपी को कैम्पस में बुलवाया था। मामले में वीसी प्रो. विनय कुमार पाठक ने जानकीपुरम थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है।


यूनिवर्सिटी के मीडिया प्रभारी आशीष मिश्रा के मुताबिक, बस्ती निवासी विकास मिश्रा ने मनोज कुमार शर्मा और विजय मिश्रा को एकेटीयू के सरकारी कॉलेज में दाखिला दिलवाने का झांसा दिया। इसके लिए विकास ने दोनों से दो-दो लाख रुपये वसूल लिए। साथ ही उनका दाखिला कानपुर के दयानंद दीनानाथ कॉलेज ऑफ फार्मेसी में करवा दिया। एकेटीयू के वित्त अधिकारी के हस्ताक्षर वाली फर्जी फीस रसीद भी उन्हें दे दी। जब दोनों छात्र कॉलेज पहुंचे तो उन्हें पता चला कि यह कॉलेज सरकारी नहीं है।

कई किस्तों में दिए थे 2 लाख


पीड़ित छात्र विजय ने बताया कि उसने दो लाख रुपये कई किस्तों में मार्च महीने में विकास के खाते में पैसे जमा किए थे। कई महीने बीत जाने के बाद विजय ने जब दाखिले के बारे में पूछा तो आरोपी विकास ने फर्जी रसीद बनाकर उसे दे दी। उसके अभिभावक एकेटीयू पहुंचे और पूरी जानकारी यूनिवर्सिटी प्रशासन को दी।

इसके बाद शुक्रवार को अभिभावक के बुलाने पर आरोपी कैम्पस पहुंचा, जिसके बाद उसे पकड़ कर वीसी के पास ले जाया गया। पूछताछ में कई जानकारी मिलीं। इससे स्पष्ट हुआ कि इसके पीछे पूरा रैकेट हो सकता है। वीसी ने आरोपी विकास के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा दी।