देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनाने का कॉन्ट्रैक्ट स्विस कंपनी को मिला


नोएडा. 


देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनाने का जिम्मा स्विटजरलैंड की कंपनी ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल को दिया गया है। इसने शुक्रवार को दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (डायल), अदाणी इंटरप्राइजेज और एंकोरेज इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट होल्डिंग्स लिमिटेड जैसी कंपनियों को पीछे छोड़ा। जेवर एयरपोर्ट जिसे नोएडा इंटरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट भी कहा जाएगा, का निर्माण 5 हजार हेक्टेयर के क्षेत्र में होगा। इसकी लागत 29,560 करोड़ रुपए आएगी। पहले चरण में एयरपोर्ट का विकास 1334 हेक्टेयर क्षेत्र में किया जाएगा। इस पर 4588 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है। इसके 2023 तक पूरा होने की उम्मीद है।


एयरपोर्ट के प्रबंधन के लिए सरकार ने नायल का गठन किया


एयरपोर्ट परियोजना के अधिकारी ने बताया कि स्विट्जरलैंड की कंपनी ने राजस्व में हिस्सेदारी के मामले में प्रति यात्री सबसे ऊंची बोली लगाई। इस एयरपोर्ट के प्रबंधन के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नायल) का गठन किया है। 


दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में बनने वाला यह तीसरा एयरपोर्ट होगा। दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में दिल्ली में इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट और गाजियाबाद में हिंडन एयरपोर्ट मौजूद है।