शक्ति महिला पुलिस सम्मान समारोह में सम्मानित हुई ‘महिला शक्ति’ 

लखनऊ संवाददाता


लखनऊ। राजधानी के विभूति खण्ड, गोमतीनगर स्थित उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी के प्रेक्षागृह में सृजन फाउण्डेशन एवं स्वच्छ भारत संवैधानिक भारत के संयुक्त तत्वाधान में 'शक्ति महिला पुलिस सम्मान' समारोह सम्पन्न हुआ। अवसर था प्रथम महिला पुलिस नियुक्ति की 109वीं वर्षगाठ का। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि पूर्व पुलिस महानिदेशक तथा अनुसूचित जाति एवं अनसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष बृजलाल ने किया। 



आयोजन का आरम्भ गणेश स्तुति से किया गया। इसके बाद बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये। समारोह में 31 महिला पुलिस कर्मियों को सम्मानित किया जाना था जिसमें से 2 महिला पुलिस कर्मी निजी कारणों से उपस्थित नहीं हो सकीं। कार्यक्रम की अध्यक्षता उत्तर प्रदेश के पूर्व आईजी आर.के.चतुर्वेदी ने की। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में एसीएम, लखनऊ संत कुमार, एपी.ईओ डब्ल्यू हबीबुल हसन, इंस्पेक्टर राजभवन कुलदीप सिंह, इंस्पेक्टर-1090 मो0 अली साहिल, टीम मीडिया के एक्सपर्ट के एमडी नागेन्द्र मिश्र, नीलांश ग्रुप के डायरेक्टर संतोष श्रीवास्तव तथा 181 आशा ज्योति केन्द्र की प्रभारी अर्चना सिंह उपस्थित थीं।


सम्मानित होने वाली महिला पुलिसकर्मियों में सीओ बीकेटी डा0 वीनू सिंह, सीओ महिला सम्मान प्रकोष्ठ अमिता सिंह, इंस्पेक्टर महिला थाना शारदा चैधरी, इंस्पेक्टर महिला सम्मान प्रकोष्ठ सुनीता सिंह, इंस्पेक्टर एलआईयू प्रभावती सिंह, सब इंस्पेक्टर एलआईयू कमला दयाल, गोमतीनगर सब इंस्पेक्टर नीतू सिंह, आलमबाग में तैनात निर्मला यादव, महिला थाना में तैनात मालती सिंह, गौतमपल्ली में तैनात पूजा यादव, कैसरबाग में तैनात साधना राय, हजरतगंज में तैनात निदा अर्शी, गीता सिंह, विभूतिखण्ड में तैनात चन्द्रप्रभा गौतम, कृष्णानगर में तैनात गीता सिंह, 1090 में तैनात बबिता यादव, उमा शर्मा, डीजीपी आफिस में तैनात कांस्टेबिल देव कुमारी सिंह, कांस्टेबिल डाॅयल 100 सीतू पाठक, कांस्टेबिल लोक भवन शिव कुमारी, कांस्टेबिल जानकीपुरम माला शुक्ला, अंजनी सिंह, बबिता अग्रहरि, विमलेश कुमारी, विभूतिखण्ड में तैनात पूजा सिंह, आशियाना में तैनात प्रीति सरोज, सरला सरोज, हजरतगंज में तैनात मनीषा व स्वाती हैं। डायल 100 की डीएसपी श्वेता श्रीवास्तव व सबइंस्पेक्टर सर्विलांस अनुपमा पाल को भी सम्मानित किया जाना था किन्तु निजी कारणों के चलते वे कार्यक्रम मे नहीं आ सकीं।